Breaking News

Hindi poem

ऐ खुदा, तुझसे नाराज हूँ – हिंदी कविता

साधू संत अब
माया के पीछे पड़े हैं,
माया तो छोड़ो,
चरित्र से भी गिरे हैं.
और कुछ तो
अपनी दुकानदारी में लगे हैं.
आत्मा – परमात्मा
की बात करने वाले,
बीसियों पहरेदारों
से घिरे हैं.
इसलिए,
ऐ खुदा,
तुझसे नाराज हूँ,

हिंदी कविता – अंतर्मन

इस बदलती दुनिया में,
पल पल होते हैं परिवर्तन.
देखने में अच्छे लगते,
पर सच जानता है अंतर्मन.

मेरे सब्र का न ले इम्तिहान, मेरी खामोशियों को सदा न दे

किसी को प्यार करना और उसे हमेशा के लिए पा सकना जिंदगी की सबसे खूबसूरत घटना है… लेकिन किसी को बेइंतिहा प्यार करना और उसे खो देना, यह जिंदगी की दूसरी ऐसी घटना है जो हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा होती है…

हिंदी कविता – भविष्य की कल्पना

दाने गिनकर दाल मिलेगी,
गेंहूं की बस छाल मिलेगी.
आने वाली पीढ़ी को.

हिंदी कविता – जलते दिए – शहीदों के लिए

हम शहीदों की राहों के जलते दिए,
हमको आंधी भला क्या बुझा पाएगी.

हिंदी कविता – चाहत

छू लो उन गहराइयों को जिनसे तुम्हें मोहब्बत है,

छू लो उन ऊंचाइयों को जिनकी तुम्हें चाहत है.

पा लो उन सच्चाइयों को जिनकी तुमको हसरत है.

हिंदी कविता – सुख-दुःख

सुख दुःख तो ईश्वर का चक्रव्यूह है.
यह मनुष्य के लिए गणित का एक प्रकार से आव्यूह है.

हिंदी कविता – दो पत्तों की कहानी

दो पत्तों की है मर्म कथा

जो एक डाल से बिछड़ गए |

विपरीत दिशाओं में जाकर

जाने कैसे वे भटक गए |

थे तड़प रहे, सूखें न कहीं |

यहाँ मैं अजनबी हूँ

किससे करूँ शिकवा शिकायत ,

किससे करूँ यारी दोस्ती ,

किससे करूँ नफरत दुश्मनी ,

यहाँ मैं अजनबी हूँ .

मैं अभी रास्ते में हूँ

मंजिलों के हाल न पूंछो,
अभी तो रास्ते में हूँ .
मंजिलें हैं अभी बहुत दूर ,
अभी तो वक्त लगेगा .