Breaking News

bhavishya

हिंदी कविता – भविष्य की कल्पना

दाने गिनकर दाल मिलेगी,
गेंहूं की बस छाल मिलेगी.
आने वाली पीढ़ी को.