Sunday, September 24, 2017
Home हिंदी साहित्य

हिंदी साहित्य

Hindi Poem - Chahat by Roli Gupta

हिंदी कविता – चाहत

छू लो उन गहराइयों को जिनसे तुम्हें मोहब्बत है, छू लो उन ऊंचाइयों को जिनकी तुम्हें चाहत है. पा लो उन सच्चाइयों को जिनकी तुमको हसरत है.

हिंदी कविता – अंतर्मन

इस बदलती दुनिया में, पल पल होते हैं परिवर्तन. देखने में अच्छे लगते, पर सच जानता है अंतर्मन.
Show Off Life - Don’t Waste Your Life in Show Off

दिखावा: जिन्दगी जीने को तरसती रही, लोग जन्म दिन मनाते रहे

आज की इस दौड़-भाग वाली जिंदगी में लोग हँसते - मुस्कराते दिखाई पड़ते हैं लेकिन हकीकत में अंदर से टूटे हुए होते हैं. बड़े शहरों की जिंदगी शायद कुछ ऐसी ही है.
Hindi Poem - Main Abhi Raste Me Hoon by Surendra

मैं अभी रास्ते में हूँ

मंजिलों के हाल न पूंछो, अभी तो रास्ते में हूँ . मंजिलें हैं अभी बहुत दूर , अभी तो वक्त लगेगा .
Prayer to God

मेरी प्रार्थना – मैं ईश्वर से क्या मांगता हूँ

मुझे संकटों से बचाओ, यह प्रार्थना करने मैं तुम्हारे द्वार नहीं आया. मैं तो वह शक्ति मांगने आया हूँ, जो संकटों में संघर्ष कर खिलती है.
Hindi Poem - Sukh Dukh by Chandni Nishad

हिंदी कविता – सुख-दुःख

सुख दुःख तो ईश्वर का चक्रव्यूह है. यह मनुष्य के लिए गणित का एक प्रकार से आव्यूह है.
Hindi Poem and Shayari - Mere Sabr ka Na Le Imtihaan

मेरे सब्र का न ले इम्तिहान, मेरी खामोशियों को सदा न दे

किसी को प्यार करना और उसे हमेशा के लिए पा सकना जिंदगी की सबसे खूबसूरत घटना है... लेकिन किसी को बेइंतिहा प्यार करना और उसे खो देना, यह जिंदगी की दूसरी ऐसी घटना है जो हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा होती है...
Ae khuda Tujhse Naraj Hu

ऐ खुदा, तुझसे नाराज हूँ – हिंदी कविता

साधू संत अब माया के पीछे पड़े हैं, माया तो छोड़ो, चरित्र से भी गिरे हैं. और कुछ तो अपनी दुकानदारी में लगे हैं. आत्मा - परमात्मा की बात करने वाले, बीसियों पहरेदारों से घिरे हैं. इसलिए, ऐ खुदा, तुझसे नाराज हूँ,
bhavishya ki kalpana

हिंदी कविता – भविष्य की कल्पना

दाने गिनकर दाल मिलेगी, गेंहूं की बस छाल मिलेगी. आने वाली पीढ़ी को.
Hindi Poem - Do Patton ki Kahani by Nitu Savita

हिंदी कविता – दो पत्तों की कहानी

दो पत्तों की है मर्म कथा जो एक डाल से बिछड़ गए | विपरीत दिशाओं में जाकर जाने कैसे वे भटक गए | थे तड़प रहे, सूखें न कहीं |