Breaking News

About Author

About

हिंदी कविता – दो पत्तों की कहानी

दो पत्तों की है मर्म कथा

जो एक डाल से बिछड़ गए |

विपरीत दिशाओं में जाकर

जाने कैसे वे भटक गए |

थे तड़प रहे, सूखें न कहीं |

अनमोल वचन

उड़ने में बुराई नहीं है, आप भी उड़ें |
लेकिन उतना ही जहाँ से जमीन साफ़ दिखाई देती हो ||

ये ब्यूटी टिप्स आप पार्लर के बजाये घर में आजमा सकते हैं

आप मेकअप करने के कितने ही ब्यूटी पार्लर के चक्कर लगा लें लेकिन ये घरेलू नुस्खे भी आपको पार्लर से कम खर्च में आपको प्राकृतिक सुंदरता प्रदान करेंगे. इसके लिए आपको कहीं जाने की जरूरत नहीं है, ये सब चीजें आपकी रसोई में उपलब्ध हैं.