Breaking News

About Author

About

हिंदी ब्लॉगर, फोटोग्राफर, वेबसाइट इंजीनियर और सोशल मीडिया एक्सपर्ट.

क्या आपने भारत की आखिरी चाय की दूकान देखी है?

उत्तराखंड के चमोली जिले में भारत-तिब्बत की सीमा से लगभग 24 किलोमीटर दूर एक गांव में भारत की अंतिम चाय की दूकान है. दरअसल यह गाँव ही भारत का अंतिम गाँव है. या यूँ कहें उधर से आने वालों के लिए यह भारत का पहला गाँव है और चाय की यह पहली दूकान है.

सुख और दुःख – बस यही तो है जिंदगी

इस कृषि प्रधान भारत देश को स्वतंत्र हुए साठ साल से भी ज्यादा हो गए हैं लेकिन किसानों की दशा वहीं की वहीं है. किसान तब भी कर्ज में डूबा था और अब भी कर्ज में डूबा है, पहले साहूकारों का, और अब खाद बीज वालों और आढ़तियों का.

दुनिया का सबसे सस्ता फोन अब $5 से भी कम कीमत में

फ्रीडम 251, दुनिया का सबसे सस्ता फोन होने का दावा कर रहा है. मात्र 251रुपये में एंड्राइड फोन, है ना कमाल. 4इंच के डिस्प्ले के साथ 3.2 मेगा पिक्सेल का मेन कैमरा और .3 मेगा पिक्सेल का फ्रंट कैमरा इसमें चार चाँद लगाते हैं.

यहाँ मैं अजनबी हूँ

किससे करूँ शिकवा शिकायत ,

किससे करूँ यारी दोस्ती ,

किससे करूँ नफरत दुश्मनी ,

यहाँ मैं अजनबी हूँ .

मैं अभी रास्ते में हूँ

मंजिलों के हाल न पूंछो,
अभी तो रास्ते में हूँ .
मंजिलें हैं अभी बहुत दूर ,
अभी तो वक्त लगेगा .

पहला प्यार – एक छोटी सी कविता

पहला प्यार होता है ,
ईश्वर का दिया हुआ मौका ,
तन मन की बहार की,
निर्मल वयार का सुगन्धित झोंका

बस नहीं अपना

इक खुशनुमा लम्हा आकर गुजर गया
क्या हुआ कुछ दूर साथ चले ,
क्या हुआ चलकर विछड़ गए ।
सोचो एक खूबसूरत मोड़ न दे सके
वरना याद आते उम्र भर

सावधान – कैमरे कहीं भी हो सकते हैं

आजकल कैमरों का बड़ा जोर है. बड़े से लेकर छोटे कैमरे कहीं भी मिल जाते हैं. पहले सिर्फ नेगेटिव या रील वाले ही कैमरे होते थे पर अब तो डिजिटल कैमरों ने दुनिया ही बदल दी. मोबाइल में कैमरा, कहीं भी निकल और चालू हो गए, फोटो खींचने में या फिर वीडियो बनाने में.

हिन्दुस्तान की हालत का अंदाज़ा लगाओ

अपनी मातृ भाषा की किस तरह धज्जियाँ उड़ाते हैं ये सरकारी नोटिस बोर्ड. क्या आपने गौर किया है इस तरह के नोटिस बोर्ड पर?

फूल ऐसे ही सुन्दर नहीं होते हैं

फूल कैसे भी हों सुंदरता तो होती है. और सुंदरता सभी को भाती है. सोचिये, अगर इस धरती पर पेड़ पौधे नहीं होते तो ये धरती कैसी लगती. पेड़ पौधे होंगे तभी फल फूल भी होंगे. तो आइये इस धरती को हरा भरा और खूबसूरत बनाएं.